BDay Special: सौरव गांगुली से जुड़े 15 फैक्ट जो आपको पता होने चाहिए

आज पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली का जन्मदिन है और इसके साथ ही गांगुली 45 साल के हो गए हैं। सौरव गांगुली के बारे में हम सभी यह बात जानते हैं कि सौरव गांगुली भारतीय टीम के सबसे आक्रामक कप्तान थे और उन्हें की कप्तानी में भारतीय टीम ने विदेशी धरती में जाकर भी जीत दर्ज करना सीखा।

आइए देखते हैं पूर्व भारतीय कप्तान सौरव गांगुली के जीवन के 15 अनछुई बातें –

1. सौरव गांगुली का जन्म 8 जुलाई 1972 को कोलकाता पश्चिम बंगाल में हुआ था।

2. गांगुली का पूरा नाम सौरव चंडीदास गांगुली है।सौरव चंडीदास गांगुली और निरूपा गांगुली के सबसे छोटे बेटे थे और शुरू से ही इनकी आर्थिक स्थिति काफी मजबूत थी।

3. सौरव को बचपन में उनके दोस्त “महाराजा” के नाम से बुलाते थे जिसका मतलब होता था सब का राजा। क्रिकेट में बुलंदियां छूने के बाद गांगुली को “प्रिंस ऑफ कोलकाता” बुलाया जाने लगा।

4. सौरव अपने सभी काम दाहिने हाथ से करते हैं लेकिन सौरव गांगुली हमेशा से ही बल्लेबाजी बाए हाथ से करते हैं।

5. सौरव ने 11 जनवरी 1992 को वेस्टइंडीज के खिलाफ वनडे डेब्यू किया था तथा 20 जून 1996 को उन्होंने इंग्लैंड के खिलाफ अपना टेस्ट डेब्यू किया था।

6. सौरव गांगुली ने अपने टेस्ट डेब्यू में लॉड्स में इंग्लैंड के खिलाफ शानदार शतक लगाया था।

7. सौरव ने अपने करियर के दौरान सिर्फ एक बार टेस्ट क्रिकेट में भारतीय टीम के लिए पारी की शुरुआत की थी।

8.  सौरव गांगुली की पहली पसंद क्रिकेट नहीं थी बल्कि वह तो बचपन से ही फुटबॉल खेलना चाहते थे और क्रिकेटर बनने के बावजूद गांगुली को फुटबॉल बहुत ज्यादा पसंद है।

9. सौरव ने पश्चिम बंगाल के लिए रणजी ट्रॉफी में डेब्यू करने के लिए अपने बड़े भाई स्नेहाशीष की जगह ली थी। गांगुली के कारण स्नेहाशीष कभी भी पश्चिम बंगाल की टीम में वापसी नहीं कर पाए।

10. पश्चिम बंगाल के उत्तर में परगंस जिले में 1.5 किलोमीटर लंबी सड़क है, जिसका नाम सौरव गांगुली के नाम पर रखा गया है।

11. सौरव उन पांच क्रिकेटरों में शामिल है जिनके नाम वनडे क्रिकेट में 10000 रन, 100 विकेट्स और 100 कैच है।

12. सौरव को हमेशा से ही नए उभरते हुए खिलाड़ियों को मौका देने के लिए जाना जाता है। गांगुली की कप्तानी में भारत को वीरेंद्र सहवाग, युवराज सिंह, हरभजन सिंह और जहीर खान जैसे खिलाड़ी भारत को मिले।

13. सौरव उन 3 खिलाड़ियों(अरविन्दा डिसिल्वा और महिला जयवर्धने) में शामिल है जिहोंने ICC टूर्नामेंट के फाइनल में शतक लगाया हुआ है।

14. 20 मई 2013 को सौरव गांगुली को पश्चिम बंगाल सरकार ने बंग्ला विभूषण अवार्ड से नवाजा। पश्चिम बंगाल सरकार यह वार्डन खिलाड़ियों को देती है जिन्होंने खेल के अलग-अलग क्षेत्र में नई प्रतिभाओं को जन्म दिया।

15. सौरव गांगुली एटलेटिको डी कोलकाता के सह-मालिक है। एटलेटिको डी कोलकाता ने इंडियन सुपर लीग के 2014 सीजन भी अपने नाम किया था।

इसे भी देखे – 

 

Related Posts