आखिरकार भारतीय टीम ने साबित कर दिया की क्रिकेट अब सिर्फ पैसे का खेल रह गया है

18 जून को आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल में पाकिस्तान ने भारत को 180 रनों से करारी शिकस्त दी लेकिन इस हार के बावजूद भारतीय टीम के खिलाड़ियों पर कोई चिंता की लकीरें नजर नहीं आए जिससे यह साबित हो रहा है कि क्रिकेट अब सिर्फ पैसे का खेल रह गया है।

क्योंकि 18 जून को भारत और पाकिस्तान का मुकाबला दो बार हुआ था और इन दोनों मुकाबलों से कुछ दिन पहले भारतीय सीमा पर पाकिस्तानी आतंकवादियों ने भारतीय जवानों पर फायरिंग की थी जिसमें भारतीय जवान भी शहीद हो गए थे।

अगर देखा जाए तो 18 जून को हुए मैच में भारत के खिलाड़ियों को काली पट्टी बांधनी चाहिए थी लेकिन भारत की किसी भी खिलाड़ी ने ना तो किसी भी प्रकार की काली पट्टी बांध रखी थी और ना ही मैच के पहले या मैच के बाद भारतीय शहीदों के लिए कोई मौन रखा।

Virat Kohli, Hardik Pandya, No Black Patti, क्रिकेट अब सिर्फ पैसे का खेल

हम क्रिकेट को पैसे का खेल इसलिए कह रहे हैं क्योंकि 18 जून को शाम 6:30 बजे हॉकी में भारत और पाकिस्तान का मुकाबला हुआ था और इस मुकाबले में सभी भारतीय खिलाड़ियों ने अपने कंधे पर काली पट्टी बांध रखी थी और इस मुकाबले में भारत ने पाकिस्तान को 7-1 से करारी शिकस्त दी थी।

Hockey, Indian National Game, क्रिकेट अब सिर्फ पैसे का खेल

मुझे गर्व है कि हमारा राष्ट्रीय खेल हॉकी है क्योंकि अभी तक जब भी ऐसी कोई घटना हुई है। तब किसी भी हॉकी खिलाड़ी ने कोई भी गलत बयान नहीं दिया है और हमेशा देश के प्रति अपना लगाऊ भी व्यक्त किया है और इस वाक्य पर पूर्व भारतीय हॉकी खिलाड़ी ने कहा कि मुझे गर्व है कि मैं भारतीय हॉकी टीम का सदस्य रहा था। अच्छा हुआ कि मैंने कभी क्रिकेट नहीं खेला।

4 जून और 18 जून को हुए पाकिस्तान के खिलाफ मैच से पहले भारतीय कप्तान विराट कोहली से पूछा गया था कि भारत और पाकिस्तान के बीच वर्तमान में अच्छी स्थिति नहीं चल रही है तो क्या आपको यह मैच खेलना चाहिए तो उन्होंने जवाब दिया था कि यह सिर्फ क्रिकेट मैच है इस से ज्यादा कुछ भी नहीं है और मैं इससे ज्यादा और कुछ नहीं कहना चाहता हूं।

अगर देखा जाए तो क्रिकेट खिलाड़ियों को हॉकी खिलाड़ियों की तुलना में ज्यादा पैसे मिलते हैं और उन्हें ज्यादा मेहनत भी नहीं करनी पड़ती है लेकिन हॉकी खिलाड़ियों को अपने दम पर भारतीय टीम में चयन पाना होता है और हॉकी में रिटायर होने के बाद उन्हें अपने दम पर नौकरी भी लेनी होती है जबकि क्रिकेट में एक बार IPL खेलने से ही पूरी जिंदगी की कमाई हो जाती है।

Related Posts