एफसी गोवा को पेनल्टी शूटआउट मे 6-5 से हराकर पहली बार इंडियन सुपर लीग के फाइनल मे पहुँची मुम्बई सिटी एफसी

0-0 से मैच ड्रा होने के बाद पेनल्टी शूटआउट से हुआ निर्णय।

मुम्बई सिटी एफसी ने सोमवार को बोम्बोलिम के जीएमसी स्टेडियम में पहले सेमीफाइनल के सेकेंड लेग मे एफसी गोवा को पेनल्टी शूटआउट मे 6-5 से हराकर हीरो इंडियन सुपर लीग (आईएसएल) के सातवें सीजन के फाइनल मे जगह बना ली है। पहले सेमीफाइनल के फर्स्ट लेग में मुम्बई सिटी एफसी और एफसी गोवा के बीच खेला गया मुकाबला 2-2 से ड्रॉ रहा था।

एफसी गोवा और मुम्बई सिटी एफसी के बीच हुआ सेमीफाइनल के दूसरे लेग का मुकाबला काफी रोमांचक और टक्कर का रहा। दोनो ही टीम ने गोल करने के कुछ अच्छे मौके बनाये पर कामयाब नही हुए। निर्धारित समय और एक्स्ट्रा टाइम मे कोई भी गोल न होने के बाद मैच पेनल्टी शूटआउट मे चला गया।

पेनल्टी शूटआउट मे गोवा के खिलाड़ियो ने चार किक मिस की जिनमे से 3 टारगेट पर भी नही थी। टीम के मुख्य खिलाड़ी एडू बेदिया और ब्रैंडन फर्नांडीस भी शूटआउट मे गोल नही कर पाये। गोवा के लिए शूटआउट मे एंगुलो, इवान गैरिडो गोंजालेज, इशान पंडिता, जॉर्ज मेंडोज़ा और आदिल खान ने स्कोर किया।

वही मुम्बई की टीम की ओर से 3 खिलाडी हर्नान सैन्टाना, ह्यूगो बोमस और अहमद जौह शूटआउट मे गोल करने में नाकाम रहे। रोलिन बोर्जेस ने शूटआउट का निर्णायक गोल दाग कर अपनी टीम मुम्बई सिटी एफसी को जीत दिलाई। बोर्जेस के अतिरिक्त Ogbeche, ह्यूगो बोमस, M Fall, मंदार राव देसाई और अमय राणावडे ने शूटआउट में मुम्बई सिटी एफसी के लिए स्कोर किया।

इस जीत के साथ मुम्बई सिटी एफसी पहली बार हीरो इंडियन सुपर लीग फाइनल मे पहुँच चुकी है। फाइनल मे मुम्बई सिटी एफसी का सामना दूसरे सेमीफाइनल की विजेता ATK मोहन बागान या नार्थ ईस्ट यूनाइटेड से होगा।