सैफ कप: भारत का आठवी बार खिताब जीतने का सपना टूटा, फाइनल में मालदीव से मिली हार

भारतीय टीम की ओर से एकमात्र गोल सुमित पासी ने किया।

ढाका: शानिवार को भारत और मालदीव के बीच खेले गए 12वे साउथ एशियन फुटबॉल फेडरेशन कप (सैफ कप) के फाइनल मुकाबले में मालदीव ने भारत को 2-1 से हराकर खिताब जीत लिया। ढाका के बंगबंधु नेशनल स्टेडियम में खेले गए इस मुकाबले में मालदीव ने दूसरी बार खिताब अपने नाम किया।

मालदीव के लिए पहला गोल मैच के मिनट 19 में इब्राहिम हुसैन ने किया। इसके बाद पहले हाफ में कोई गोल नहीं हुआ और 1-0 की बढ़त के सात मालदीव ने पहले हाफ का अंत किया। मैच का दूसरा गोल भी मालदीव के अली फसीर ने 69वे मिनट में कर अपनी टीम को 2-0 की बढ़त दिला दी। इसके बाद निर्धारित समय समाप्त होने तक कोई अन्य गोल नही देखने को मिला। भारत की तरफ से सुमित पासी ने इंजरी टाइम (90+2) में गोल कर स्कोर 2-1 किया।

इस जीत के साथ ही मालदीव ने 2009 में फाइनल में मिली भारत से हार का बदला भी ले लिया। वह मैच भी बंगबंधु स्टेडियम में खेला गया था। तब दोनों टीमें अतिरिक्त समय तक भी गोल नहीं कर पाई थीं। भारत ने पेनल्टी शूटआउट में मैच जीता था।

इस हार के साथ भारत आठवीं बार खिताब जीतने से चूक गया। भारत ने 1993, 1997, 1999, 2005, 2009, 2011 और 2015 में सैफ चैंपियनशिप अपने नाम किया है, जबकि मालदीव ने 2008 के बाद दूसरी बार खिताब जीता। इनके अलावा श्रीलंका ने 1995, बांग्लादेश ने 2003 और अफ़ग़ानिस्तान ने 2013 में एक-एक बार खिताब जीता है।

इस टूर्नामेंट में भारतीय टीम सुभाशीष बोस की कप्तानी में अपने प्रमुख खिलाड़ियों के बिना खेल रही थी। भारतीय टीम में शामिल ज्यादातर खिलाड़ी अंडर-23 के थे। भारतीय टीम ने लीग मैच और सेमीफाइनल में शानदार प्रदर्शन किया था, हालांकि फाइनल मुकाबले में भी भारतीय टीम अपना अच्छा प्रदर्शन बरकरार नहीं रख पाई और उन्हें 2-1 से हार का सामना करना पड़ा।