इतिहास : ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ सचिन तेंदुलकर की फिरकी से हारा हुआ मैच 10 ओवर में जीती भारत

जब सचिन तेंदुलकर की फिरकी के आगे ढेर हुई आस्ट्रेलियाई पारी

यह तो हम सब जानते हैं कि सचिन तेंदुलकर को क्रिकेट का भगवान कहा जाता है। सचिन तेंदुलकर ने क्रिकेट में कई रिकॉर्ड अपने नाम किये इसी कारण सचिन तेंदुलकर को रिकॉर्डो का बेताज बादशाह कहा जाता है। सचिन तेंदुलकर ने अपनी बल्लेबाज़ी के दम पर कई रिकॉर्ड बनाये है लेकिन क्या आप यह जानते है की सचिन तेंदुलकर ने बल्लेबाज़ी के दम पर ही नही बल्कि गेंदबाज़ी के दम पर भी भारतीय टीम को कई मैच जीताकर कर कई रिकॉर्ड बनाए है। सचिन तेंदुलकर अपनी गेंदबाज़ी के दम पर विरोधी टीम के बल्लेबाज़ों के पसीने छुड़ा देते थे। सचिन ने ऐसा ही खास कमाल 1998 में पेप्सी त्रिकोणीय श्रंखला में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ किया।

1998 में पेप्सी त्रिकोणीय श्रृंखला का पहला मैच भारत और आस्ट्रेलिया के बीच कोच्चि में खेला गया। भारतीय टीम ने पहले बल्लेबाजी करते शानदार खेल दिखाया कप्तान मोहम्मद अजरुद्दीन 82 रन की पारी खेली तो अजय जडेजा ने 105 रनों की शानदार शतकीय पारी खेली वही कानितकर ने अच्छी बल्लेबाजी की वही सचिन तेंदुलकर इस मैच में मात्र 8 रन बना पाए। भारत ने शानदार बल्लेबाजी करते हुए 50 ओवर में 5 विकेट खोकर 309 रन बनाए और आस्ट्रेलिया के सामने 310 रन का बड़ा लक्ष्य खड़ा किया।

310 रन के बड़े लक्ष्य के जवाब में ऑस्ट्रेलिया की शुरुआत शानदार रही और ऑस्ट्रेलियाई टीम का स्कोर पहले 11 ओवर में ही 100 के पार हो गया। ऑस्ट्रेलिया धीरे धीरे जीत की ओर बढ़ रहा था और 30 ओवर में 3 विकेट खोकर 200 रन बना लिये थे। ऑस्ट्रेलिया जीत के बिलकुल करीब पहुच रहा था और भारतीय टीम इतना बड़ा लक्ष्य बनाने के बाद भी हार के करीब पहुच रही थी।

फिर आया ऑस्ट्रेलिया के ऊपर सचिन का कहर

Sachin tendulkar
Sachin tendulkar ©Cricket Heaven

ऑस्ट्रेलिया की शानदार गेंदबाजी के आगे भारत हार के करीब पहुंच रहा था और प्रमुख गेंदबाजों के फ्लॉप हो जाने के कारण भारतीय कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन ने सचिन तेंदुलकर को गेंद थमाई। सचिन तेंदुलकर के गेंदबाजी करने आते ही पूरी ऑस्ट्रेलियाई टीम सचिन की फिरकी के सामने टिक नहीं पाए और 269 रन पर ऑलआउट हो गयी। सचिन तेंदुलकर ने 10 ओवर में 32 रन देकर पांच विकेट हासिल किए। सचिन तेंदुलकर के इस करिश्माई प्रदर्शन की बदौलत भारतीय टीम हारा हुआ मैच 41 रनों से जीत गए। सचिन तेंदुलकर को इस हेरतअंगेज गेंदबाज़ी के लिये मेन ऑफ द मैच का अवॉर्ड भी मिला।

सम्बंधित ख़बरे